API और Decentralized API

Decentralized API in Hindi : दोस्तो आज के समय में हम सभी मोबाइल फ़ोन, laptop, desktop, VR, आदी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते है। और हम सबको यह भी पता है की इनको इस्तेमाल करने के लिए कई प्रकार के application और software आते है। जिनकी मदत से सभी प्रकार की टेक्नोलॉजी को आसानी से इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन यहा पर एक सवाल उठता है, आखिर यह aaps और software काम कैसे करते है? जब भी हम किसी app या software के अंदर कुछ भी काम करते है चाहे वह facebook में post करना हो या instagram में किसी को message करना, यह सब काम कैसे करता है।

अगर आपको भी यह नहीं पता तो मै आपको यह बताना चाहता हु की यह सारे software और apps API की मदत से काम करते है। 

अभी हाल ही में क्रिप्टोकरेंसी बहुत ज्यादा प्रसीद हुई है और कुछ समय से यह एक चर्चा का विषय भी बानी हुई है। क्योकि कई सारे लोग भारत में इसमें इन्वेस्ट करते है और वह नहीं चाहते की यह भारत में कभी बंद हो।

तो अगर भी क्रिप्टोकरंसी के दीवाने हैं तो आपने क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज जैसे कि वजीरएक्स, बाइनेंस, आदि को जरूर इस्तेमाल किया होगा। या फिर आपने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के बारे में तो जरूर सुना होगा क्योंकि पूरी की पूरी क्रिप्टो दुनिया इसी के ऊपर स्थित है। कोई ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी हो या फिर कोई क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज हो या कोई decentralized app हो आखिर यह सारे काम कैसे करते हैं, यह सभी भी सामान्य app और सॉफ्टवेयर की तरह ही ए.पी.आई की मदद से काम करते हैं।

लेकिन इनकी API सामान्य API से अलग होती है क्योकि यह decentralized तरीके से काम करती है जिसके बारे में हम नीचे बात करेंगे। तो अब decentralized API की बात करने से पहले सामान्य API की बात करते हैं कि आखिर API क्या होती है। और यह कैसे काम करती है? क्योंकि किसी भी चीज को जानने से पहले आपको उसके basics को जानना आवश्यक होता है इसलिए decentralized API से पहले आपको यह जानना आवश्यक है कि API क्या होती है तो चलिए जानते हैं।

API-और-Decentralized-API-क्या-होती-है

API क्या होती है(What is API in Hindi)

API एक mechanism होता है जो आपके डिवाइस और company के सरवर के बीच में connection तथा communication करने में मदद करता है। आप ऐप या सॉफ्टवेयर के अंदर कुछ भी लिखते हैं या पोस्ट करते हैं तो वह सारा API के जरिए सरवर के पास request के रूप में जाता है फिर वहां से सरवर आपकी जरूरत के मुताबिक API द्वारा भेजे गए डाटा को प्रोसेस करता है और फिर वह data जो आपके द्वारा माँगा गया था उसको API के पास वापस भेज देता है। अतः API आपको वापस आया हुआ डाटा app और software के अंदर दिखाती है। 

मैं जानता हूं कई लोगों को ऊपर बताई गयी टेक्निकल की भाषा नहीं समझ आई होगी तो चलिए हम API को एक उदाहरण से समझते हैं।

चलिए मान लीजिए कि आप एक होटल में खाना खाने के लिए बैठे हुए है। आपके हाथ में एक menu है जहां पर उस होटल में बनने वाली सारी खाने की dishes लिखी हुई है। अब waiter आपके पास आता है और आप उसको अपनी पसंद का आर्डर देते है। आर्डर लेने के बाद waiter आपका आर्डर kitchen में शेफ के पास भेज देता है। शेफ आपके द्वारा पसंद की गयी dishes का आर्डर त्यार करता है और फिर waiter वह dishes waiter के हाथो आपके पास लाइ जाती है।

अब इस पूरे उदाहरण में menu को आपका मोबाइल फोन का ऐप या फिर लैपटॉप का सॉफ्टवेयर मानते हैं। यहां पर वेटर को API मान सकते हैं। और किचन में खड़े शेफ को आप सरवर मान सकते हैं।

तो जैसे ही आपने app में किसी भी चीज बटन को टच किया उसके बाद ए.पी.आई आपकी जरुरत के मुताबिक server को वह request भेजता है सरवर ए.पी.आई से request लेने के बाद उस डाटा को प्रोसेस करता है और आपकी जरूरत के मुताबिक ए.पी.आई के पास वह डाटा वापस भेज देता है उसके बाद ए.पी.आई उस डाटा को सरवर से लेकर आपको आपकी स्क्रीन के ऊपर दिखा देती है। 

मुझे लगता है की अब आप समझ गए होंगे की ए.पी.आई क्या होती है और किस प्रकार यह आपके फोन के अंदर सभी काम आसान बना देती है।

तो चलिए अब decentralized API की बात कर लेते है की आखिर यह क्या चीज है।  

API और Decentralized API
source: cloud.google.com