मॉनिटर क्या है और इसके प्रकार क्या है – What is meaning of Monitor in Hindi

Meaning of Monitor in Hindi : कंप्यूटर मॉनिटर एक ऐसा हार्डवेयर डिवाइस जो कंप्यूटर के सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों में से एक है।अगर में पहल के समय की बात करू तो ज्यादा लोगो के पास कंप्यूटर नहीं हुआ करता था। और ना ही कंप्यूटर को लेकर लोग इतने जागरूक थे। जिसकी वजह से लोग मॉनिटर और टी.वी के बीच में अंतर तक नहीं तेह कर पाते थे। क्योकि पहले के समय के टी.वी और मॉनिटर देखने में लगभग एक सामान लगते थे।

लेकिन अगर हम आज के समय की बात करे तो लोगो की जागरूकता कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के प्रति बहुत बढ़ चुकी है। आज आपको हर पांच में से तीन घरो में कंप्यूटर देखने को मिल जाएगा। क्योकि आज हर चीज टेक्नोलॉजी से जुड़ चुकी है। चाहे वह ऑफिस का काम हो या स्कूल का हर जगह कंप्यूटर की जरुरत पढ़ ही जाती है। 

अब अगर हम मॉनिटर की बात करे तो इसके बिना कंप्यूटर को इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। क्योकि कंप्यूटर में क्या चल रहा है वह सारी चीजे मॉनिटर ही दिखाता है। और यही एक कार्य मॉनिटर को कंप्यूटर के सबसे महत्वपूर्ण हिस्सो में से एक बनाता है। आज इस लेख मे आपको मॉनिटर के बारे में जानकारी मिलेगी। मॉनिटर से सम्बंधित सारी जानकारी जैसे मॉनिटर क्या है, मॉनिटर की फुल फॉर्म क्या है, मोटर काम कैसे करता है, मॉनिटर के प्रकार क्या है, आदी। 

तो आज इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद अगर आप बाजार में कोई मॉनिटर लेने भी जाते है। तो एक अच्छा मॉनिटर चुनने में आपको कोई दिक्कत नहीं होगी। और आप एक अच्छा और किफायती मॉनिटर सस्ते में ले पाएंगे। तो इसलिए इस लेख को पूरा पढियेगा। अब बिना और वक़्त गवाए चलिए शुरुर करते है अपने सबसे पहले प्रश्न के साथ। Monitor kya hai

Monitor in Hindi
Monitor in Hindi

मॉनिटर क्या है? – What is Monitor in Hindi

मॉनिटर एक आउटपुट डिवाइस होता है जो कंप्यूटर के अंदर चल रही गतिविधियों को और किसी भी प्रकार की इनफार्मेशन को picture की फॉर्म में स्क्रीन पर दिखाता है। मॉनिटर का दूसरा नाम Visual Display Unit होता है। जिससे शार्ट फॉर्म में VDU भी कहते है। 

मॉनिटर किसी भी text, वीडियो, आदी को स्क्रीन पर दिखता है और इन सबको स्क्रीन पर दिखाने के लिए मॉनिटर इनको पहले pictoral फॉर्म में बदलता है फिर स्क्रीन पर दिखाता है। मॉनिटर आमतौर पर चार चीजों से मिलकर बनता है। 1. visual display, 2. case, 3. circuitry, 4. पावर सप्लाई। 

चलिए पहले मॉनिटर के इन चार component के बारे में जाने है। 

विसुअल डिस्प्ले डिस्प्ले मॉनिटर में लगी हुई स्क्रीन को कहा जाता है। इसी की मदत से हम सब कंप्यूटर की इनफार्मेशन को देख पाते है। 
केस केस मॉनिटर के कवर को कहा जाता है। मॉनिटर के ऊपर लगी हुई पूरी प्लास्टिक बॉडी को केस कहा जाता है। 
सर्किटरी सर्किटरी के बारे में तो हर कोई जानता है। यह ट्रांजिस्टर, कपैसिटर, इंडक्टर, रेसिस्टर और डायोड से बानी 
पावर सप्लाई पावर सप्लाई बिजली के ओवरलोड को नियंत्रित करने और मॉनिटर तक बिजली पहुंचाने के काम आती है। 

आज के समय के कंप्यूटर मॉनिटर में की डिस्प्ले “Thin film transistor liquid crystal display” होती है। जिसको शार्ट फॉर्म में TFT-LCD कहा जाता है। और यह LED backlightning के साथ मिलकर काम करती है। इससे पहले मॉनिटर में LED Backlightning की जगह कोल्ड कैथोड फ्लुरोसेंट का इस्तेमाल किया जाता था। लेकिन अब अनहि किया जाता।

अगर पहले के मॉनिटर की बात करू तो उनमे कैथोड-रे-ट्यूब और प्लाज्मा का इस्तेमाल किया जाता था। cathode ray tube को CRT और plasma को gas plasma भी कहा जाता है। 

अपने अगर कभी पुराने कंप्यूटर मॉनिटर देखे होंगे तो आपको यह पता ही होगा की उनको TV की तरह नहीं इस्तेमाल किया जा सकता था। जैसा की हम आज के समय के मॉनिटर को कर सकते है। और यह ही नहीं। अब तो TV में ही monitor के फंक्शन दाल दिए गए है। तो मॉनिटर लो या TV दोनों एक ही तरह काम करेंगे। 

लेकिन यहा एक बात है की हम TV को तो मॉनिटर की तरह इस्तेमाल कर सकते है। लेकिन मॉनिटर को टीवी की तरह आसानी से नहीं कर सकते। क्योकि मॉनिटर में ना तो स्पीकर होते है और ना ही कोई टीवी ट्यूनर। 

मॉनिटर का इतिहास – मॉनिटर किसने बनाया था?

सबसे पहला मॉनिटर या फिर कहे की मॉनिटर के जनक Karl Ferdinand Braun थे। यह एक German physicist थे जिन्होंने 1897 में सबसे पहले कंप्यूटर का ईजाद किया था। 

पहले कंप्यूटर मॉनिटर को विसुअल डिस्प्ले यूनिट (VDU) कहा जाता था लेकिन 1990 के बाद इस शब्द को न के ब्रबे इस्तेमाल किया जाने लगा और इसकी जगह कंप्यूटर मॉनिटर ने लेली। 

मॉनिटर के प्रकार 

Types of Monitor in Hindi

कैथोड रे ट्यूब मॉनिटर Cathode ray tube (CRT) monitor
एलसीडी डिस्प्ले LCD Display Monitor
टच स्क्रीन मॉनिटर Touch Screen Monitor
ओएलइडी मॉनिटर OLED Monitor
एलइडी मॉनिटर LED Monitor
डी एल पी मॉनिटर DLP Monitor

CRT Monitors

CRT Monitor in Hindi : इन मॉनीटर्स को पुराने ज़माने में इस्तेमाल  किया जाता था। लेकिन आज के समय में इन मॉनीटर्स की जगह फ्लैट पैनल डिस्प्ले मॉनिटर ने लेली है। CRT मॉनीटर्स के अंदर एक लेज़र लगी हुई होती है। जो स्क्रीन पर लगातार electron beam को मारती रहती है। लगातार लेज़र द्वारा electron बीम स्क्रीन पर लगने के कारंण, स्क्रीन पर लाल, नीली और हरी लाइट बनने लगती है।  जिन्हे हम RGB लाइट्स भी कहते है। और इन RGB लाइट की मदत से बाकी दूसरे रंग स्क्रीन पर बनते है। 

LCD Monitors

एलसीडी का पूरा नाम liquid crystal display है। और उसके नाम की तरह ही इस स्क्रीन में लिक्विड क्रिस्टल जैसे पदार्थ होता है। इन लिक्विड क्रिस्टल्स को इस तरह से स्क्रीन में लगाया जाता है कि स्क्रीन के पिछले हिस्से से आती रौशनी से एक इमेज बन जाती है। लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले सीआरटी डिस्प्ले की तुलना में साफ़ या कहे की ज्यादा clear image और कम रेडिएशन बनाता है। 

Touch Screen Monitor 

टच स्क्रीन मॉनीटरों को इनपुट डिवाइस भी कह सकते है । इसको इस्तेमाल करने के लिए यूजर को माउस या कीबोर्ड की जरुरत नहीं पढ़ती। इसके बजाय इसको इस्तेमाल करने के लिए उंगली या स्टाइलस का उपयोग करा जाता है। जब यूजर अपनी उंगली से स्क्रीन को छूते हैं, तब स्क्रीन में लगे सेंसर CPU को सिग्नल भेजकर यूजर की सभी प्रक्रियाओं के बारे में बताता है। 

OLED Monitor 

यह एक नई तकनीक है जिसको फ्लैट लाइट-एमिटिंग डिस्प्ले भी कहते है, अगर इसको एलसीडी डिस्प्ले की तुलना में देखा जाए तो यह एलसीडी से तुलना में अधिक कुशल, उज्जवल और पतला है। इसके साथ ही साथ इसमें बेहतर रिफ्रेश रेट और ज्यादा अच्छे कंट्रास्ट भी है। यह दो कंडक्टरों के बीच Organic thin film से बना होता है। इन डिस्प्ले को बैकलाइट की जरूरत नहीं होती हैं। 

LED Monitor 

यह एक फ्लैट स्क्रीन कंप्यूटर मॉनिटर है, जिसको Light Emitting Diode भी कहा जाता है। यह वजह में दूसरे मॉनीटर्स से हल्का होता है। लाइट को बनाने के लिए यह एल ई डी पैनल का उपयोग करता है। 

DLP Monitor 

DLP की फुल फॉर्म digital light processing होती है, और इससे Texas Instruments द्वारा बनाया गया है। यह एक जिसमे बड़ी स्क्रीन होती है। DLP को प्रोजेक्शन के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। यह ऐसी टेक्नोलॉजी है जिसकी मदत से बड़ी स्क्रीन के ऊपर images को आसानी से प्रोजेक्ट किया जा सकता है। डीएलपी के आविष्कार से पहले, कंप्यूटर सिस्टम काफी धुंदली image प्रोजेक्ट करता था क्योकि यह LCD का इस्तेंमाल करता था।

मॉनिटर का फुल फॉर्म क्या होता है – Full form of Monitor in Hindi

मॉनिटर का फुल फॉर्म होता है :-

– Mass

– On

Newton

– Is

– Train

O – On

– Rat

मॉनिटर के कार्य 

  • मॉनिटर कंप्यूटर इनफार्मेशन को स्क्रीन पर दिखाता है। 
  • मॉनिटर को टीवी की तरह भी इस्तेमाल किया जाता है। 

टीएफटी मॉनिटर क्या है?

TFT monitor in Hindi : TFT मॉनिटर LCD फ्लैट डिस्प्ले का ही एक प्रकार होता है जिसमे एक thin-ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल होता है। TFT मॉनिटर के अंदर सभी पिक्सल को एक से लेकर चार ट्रांजिस्टर की मदद से control किया जाता है। हाई quality वाले फ्लैट पैनल एलसीडी इन ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल करते हैं। TFT मॉनिटर सभी प्रकार की फ्लैट पैनल डिस्प्ले टेक्नोलॉजी से ज्यादा बेहतर resolution प्रदान करते हैं।

मॉनिटर सतह में पिक्सेल का क्या महत्व कहलाता है?

मॉनिटर (monitor in Hindi) की सतह पर पिक्सेल का बहुत importance होता है। पिक्सेल स्क्रीन के ऊपर एक बहुत छोटा चौकोर अकार में होता है। और इसका महत्व मॉनिटर में यह है की इसी की मदत से मॉनिटर में कोई भी image बनती है। चाहे कोई वीडियो, इमेज, text, आदी कुछ भी हो।  यह सारी चीजे स्क्रीन पर पिक्सेल की मदत से ही दिखती है। 

किसी अन्य मॉनिटर में presentation कैसे दिखाएं?

कभी भी एक से अधिक मॉनिटर में Presentation दिखाने के लिए बहुत सारे तरीके होते है। जिनमे से सबसे आसान तरीका है स्क्रीन शेयरिंग। स्क्रीन शेयरिंग के ज़रिये आप अपनी मॉनिटर की स्क्रीन को एक से अधिक मॉनिटर में दिखा सकते है। 

क्या मॉनिटर को मॉडिफाई कर टी वी बना सकते है?

जी हां मॉनिटर को मॉडिफाई करके टीवी बनाया जा सकता है। लेकिन यह करने के लिए आपको मॉनिटर के साथ कुछ और components की जरुरत पड़ेगी। जैसे की टीवी ट्यूनर, speakers, आदी। 

मॉनिटर और टीवी में क्या अंतर है?

मॉनिटर की स्क्रीन छोटी होती है। टीवी की बड़ी स्क्रीन होती है। 
मॉनिटर में ट्यूनर नहीं होता। इसमें ट्यूनर होता है। 
मॉनिटर को ज्यादा डिवाइस से connect करने के लिए इसमें बहुत सारे jack होते है। टीवी में ज्यादा jack नहीं होते जिसके कारन इसको ज्यादा डिवाइस के साथ connect नहीं किया जा सकता। 
एक सामान्य मॉनिटर का स्क्रीन resolution 1280×1024 होता है।  एक सामान्य टीवी का स्क्रीन size 1280 x 720 होता है। 
मॉनिटर का असली कार्य डाटा प्रोसेस करके उससे स्क्रीन पर दिखाना है। टीवी को इसलिए बनाया जाता है ताकि इससे entertainment के लिए इस्तेमाल किया जा सके। 

मॉनिटर के डिस्प्ले आकार को कैसे मापा जाता है?

मॉनिटर के डिस्प्ले आकार को मापने के लिए measuring tape का इस्तेमाल किया जाता है। आप इसको किसी भी प्रकार की नापने वाली वस्तु से मॉनिटर को नाप सकते है। 
 

मॉनिटर के स्क्रीन के छोटे-छोटे बिंदु को क्या कहते हैं?

मॉनिटर के स्क्रीन के छोटे छोटे बिंदु को पिक्सेल(Pixel) कहा जाता है। 

मॉनिटर का दूसरा नाम क्या है

Monitor in Hindi का दूसरा नाम विसुअल डिस्प्ले यूनिट (Visual display unit) होता है। 

आज आपने क्या सीखा

आज अपने मॉनिटर के बारे में जानकारी प्राप्त की। मॉनिटर क्या होता है?(What is monitor in Hindi) मॉनिटर के कार्य (Work of Monitor in Hindi), मॉनिटर के प्रकार(Types of Monitor in Hindi), आदी के बारे में जाना। मुझे आशा है की आपको आज का यह लेख पढ़के मॉनिटर के बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी। लेकिन अगर अभी आपके मन मे मॉनिटर के प्रति और कोई सवाल है तो आप उसको निचे comment के माध्यम से हमसे पूछ सकते है। 

Leave a Comment