क्रिप्टोकरेंसी क्या होती है – What is Cryptocurrency meaning in Hindi

Cryptocurrency meaning in Hindi : Cryptocurrency kya hai : आजकल आपको क्रिप्टोकरेंसी के बारे में बहुत ज्यादा सुनने को मिल रहा होगा। यूट्यूब और ट्विटर इन दोनों में तो आजकल सबसे ज्यादा चर्चा में क्रिप्टोकरेंसी ही है। पहले ऐसा नहीं था पहले इसके बारे में ज्यादातर लोग नहीं जानते थे। लेकिन जबसे Elon Musk ने डोजकॉइन को प्रमोट करना चालू किया है और लोगो को इससे जो लाखो करोडो रुपयों का फायदा हुआ है तबसे ही Cryptocurrency इतनी ज्यादा चर्चा में है और लोगो के बीच लोकप्रिय होती जा रही है। 

अब हम में से कई लोग ऐसे होंगे जिनको क्रिप्टोकरेंसी के बारे में थोड़ा बहुत पहले से पता होगा और कई ऐसे भी होंगे जिनको कुछ भी नहीं पता होगा। तो चाहे आप पहले वाले लोगो में से है जिनको क्रिप्टो के बारे में थोड़ा बहुत पता है या दूसरे वाले में से जिनको कुछ भी नहीं पता। यह लेख दोनों तरह के लोगो के लिए लाभदायक है। क्योकि इस लेख मे आपको क्रिप्टोकरेंसी से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी मिलेगी। 

आज इस लेख को पढ़ने के बाद आपके मन में Cryptocurrency से सम्बंधित जितने भी प्रशन है जैसे cryptocurrency क्या है (Cryptocurrency meaning in Hindi), क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास क्या है(History of Cryptocurrency in Hindi), क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है?(Types of Cryptocurrency in Hindi), Cryptocurrency कैसे काम करता है?, आदी के उनके उत्तर आपको मिल जाएंगे। तो चलिए अब बिना और वक़्त गवाए शुरू करते है अपने पहले प्रशन के साथ की क्रिप्टोकरेंसी क्या है। 

Cryptocurrency meaning in Hindi
Cryptocurrency meaning in Hindi

क्रिप्टोकरेंसी क्या है ( Cryptocurrency kya hai ) – Cryptocurrency meaning in Hindi

Cryptocurrency एक डिजिटल मुद्रा है जो की कम्प्यूटर अल्गोरिथम से बनी है और किसी भी प्रकार की ट्रांसक्शन करने के लिए क्रिप्टोग्राफ़ी का इस्तेमाल करती है। जैसे की इसका उपयोग सामान के लेन-देन में किया जाता है। इसको किसी भी प्रकार की सरकारी संस्था द्वारा संचालित नहीं किया जाता। और ना ही कोई इसका मालिक है।

जैसे की रूपए को भारतीय रिज़र्व बैंक संभालता और संचालित करता है। ठीक इसका उल्टा क्रिप्टोकरेंसी को कोई नहीं संभालता या संचालित करता है। 

Cryptocurrency को digital currency भी कहते है। और इनका इस्तेमाल चीजों को खरीदने और बेचने के लिए किया जाता है। इसको एक प्रकार की digital asset भी कह सकते है। जो काम करने के लिए Cryptography का इस्तेमाल करती है। 

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास – History of cryptocurrency in Hindi

सबसे पहली क्रिप्टोकरंसी 2009 में लांच की गयी या कह सकते है की बनाई गई थी। जो की बिटकॉइन थी। इसको सतोशी नाकामोतो द्वारा लॉन्च किया गया था। सतोशी नाकामोतो के बारे में किसी को भी ज्यादा नहीं पता है। बस यह कहा जाता है कि वह एक Developer थे।

लेकिन कई लोगों का मानना यह भी है, कि वह कोई संस्था थी जिसने बिटकॉइन को बनाया और उस संस्था का नाम सतोशी नाकामोतो था। अब इसमें कितनी सच्चाई है यह तो कोई नहीं जानता है।और इसका कारण यह है की सतोशी नाकामोतो के बारे में कुछ भी नहीं पता चला क्योंकि बिटकॉइन को लांच करने के कुछ समय बाद ही वह गायब हो गए थे। और उसके बाद उनका कोई भी पता नहीं लगा पाया।

शुरुआती दौर में  क्रिप्टोकरेंसी के बारे में ज्यादा लोगों को नहीं पता था और ना ही ज्यादा लोग इस पर विश्वास करते थे। लेकिन धीरे-धीरे जिस तरह बिटकॉइन लोगों के बीच चर्चित होने लगा और इसने कई लोगों को जिस तरह करोड़पति बनाया उसके बाद यह लोगों के बीच बहुत ज्यादा लोकप्रिय हो गया।

क्रिप्टोकरंसी सबसे पहले डार्क वेब को इस्तेमाल करने वाले और गैर कानूनी कार्य करने वाले लोग जैसे ड्रग डीलर आदि के बीच प्रसिद्ध हुई। एक आंकड़े में यह भी सामने आया था की बिटकॉइन के निकलने के पहले 3 महीनों के अंदर डार्क वेब पर इसकी कुल 1.2 मिलियन ट्रांजैक्शन हुई थी।

ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी काम ही कुछ इस तरीके से करती है इससे जब भी कोई ट्रांजैक्शन करता है या कह सकते हैं कि पैसे का लेन-देन करता है तो उस ट्रांजैक्शन के बारे में कोई भी पता नहीं लगा सकता कि वह ट्रांजैक्शन करने वाला व्यक्ति आखिर कौन है। जिस प्रकार अगर हम सामान्य पैसों में ट्रांजैक्शन करते हैं। तो बैंक हमारे अकाउंट के ऊपर नजर रखता है और अगर कोई गैर कानूनी कार्य करते हुए पकड़ा जाता है। तो बैंक से उसकी सारी डिटेल निकाली जा सकती है।

लेकिन क्रिप्टोकरंसी के साथ ऐसा कुछ भी नहीं है क्योंकि यह किसी के द्वारा संचालित नहीं की जाती। और जब भी किसी क्रिप्टोकरेंसी जैसे बिटकॉइन की कोई ट्रांजैक्शन होती है तो उस ट्रांजैक्शन को ट्रेस करना नामुमकिन होता है। इसी वजह से क्रिप्टोकरंसी शुरुआती दौर में सबसे ज्यादा उन लोगों के बीच प्रसिद्ध थी जो गैर कानूनी कार्य करते थे।

लेकिन बाद में जैसे-जैसे बिटकॉइन की कीमत बढ़ने लगी यह आम लोगों में भी प्रसिद्ध होने लगा। ट्रेडर इसको ट्रेडिंग के लिए इस्तेमाल करने लगे जब भी बिटकॉइन का प्राइस या किसी अन्य क्रिप्टोकरंसी का प्राइस कम होता तो वह उसको खरीद लेते और उसके प्राइस बढ़ने पर वह उसको बेच देते थे। जिसकी वजह से कई लोगों का भविष्य कुछ समय के अंदर ही बदल गया। 

और जैसे-जैसे इन लोगों के बारे में न्यूज़ में आने लगा आम लोग भी इस उम्मीद से कि वह अपना भविष्य बदल सकते हैं इसमें इन्वेस्ट करने लगे। आज के समय में सबसे बड़ी क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन है और बिटकॉइन के बाद एथेरियम यह दो ऐसी क्रिप्टोकरेंसी है जो पूरी क्रिप्टोकरेंसी मार्केट को मैनिपुलेट कर सकती हूं।

क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है? – Types of Cryptocurrency in Hindi

आज के समय में coin market cap वेबसाइट के अनुसान अबतक कुल मिलाकर 10,389  क्रिप्टोकरेंसी बाजार में आ चुकी है लेकिन इन सभी में से कुछ जुनिन्दा क्रिप्टोकरेंसी ही ऐसी है जो की लोगो के बीच बहुत ज्यादा लोकप्रिय है। और इन क्रिप्टोकरेंसी ने ही लोगो को करोड़ पति बनाया है। चलिए जानते है उनके बारे में :-

  1. Bitcoin 

आपको यह बात पता होना आवश्यक है कि पहली Cryptocurrency “बिटकॉइन” 2009 में पेश की गई थी। इसे जापान के सातोशी नाकामोतो नाम के एक इंजीनियर ने बनाया था। लेकिन  किसी को सही तरह से नहीं पता की वह एक व्यक्ति था या फिर कोई संस्था। क्योकि बिटकॉइन को बनाने के कुछ महीने बाद ही वह गायब हो गए थे। बिटकॉइन के  शुरुआत में यह उतना लोकप्रिय नहीं था, लेकिन धीरे-धीरे यह जैसे लोगो के बीच चर्चित होने लगा इसकी कीमत आसमान छूने लगीं, जिससे यह सफल हो गया। 

Bitcoin एक 100% decentralized डिजिटल currency है जिसको peer-to-peer बिटकॉइन network की मदत से संचालित किया जाता है। बिटकॉइन किसी भी प्रकार के बिचौली या Government authorities जैसे की central बैंक के द्वारा संचालित नहीं किया जाता है।

  1. Dogecoin

Dogecoin के क्रिप्टोकरेंसी बनने के पीछे एक बहुत ही दिलचस्प कहानी है। जिस समय क्रिप्टो करेंसी की दुनिया में बिटकॉइन सबसे ज्यादा मशहूर था और उसका नाम सबसे ज्यादा चल रहा था, उस वक्त कैट मार्कस नाम के शख्स ने डॉगी कॉइन नाम की करेंसी बनाई, उसका मकसद पहले बिटकॉइन का मजाक बनाना था, लेकिन डॉगी कॉइन को अपना बनाने के लिए लोकप्रियता को देखते हुए Dogecoin को एक क्रिप्टोकरंसी बना दिया गया जो लिटकोइन की तरह एन्क्रिप्शन की तकनीक का इस्तेमाल करती है और आज के समय में डॉगी कॉइन को बिटकॉइन की तरह ही इस्तेमाल किया जाता है। और इसका छोटे भाई शीबा इनु कॉइन भी मार्किट में आ चूका है। 

  1. Ethereum

 बिटकॉइन के बाद दूसरी सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोकरेंसी “Ethereum” है। इसके संस्थापक का नाम विटालिक ब्यूटिरिन है और इसके टोकन को ‘ईथर’ के नाम से भी जाना जाता है। बिटकॉइन की तरह, Ethereum भी एक ओपन-सोर्स, विकेन्द्रीकृत ब्लॉकचेन-आधारित कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म है।  यह प्लेटफॉर्म अपने यूजर्स को डिजिटल टोकन बनाने में मदद करता है, जिसकी मदद से इसे करेंसी के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। हाल ही में, एक हार्ड फोर्क ने एथेरियम को दो हिस्सों में विभाजित किया है, एथेरम (ईटीएच) और एथेरियम क्लासिक (ईटीसी)।

  1. Litecoin

Litecoin भी एक क्रिप्टो करेंसी है, जो बिटकॉइन की तरह एक विकेन्द्रीकृत क्रिप्टोकरेंसी है, जिसे किसी भी देश की सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है।

इसे 2011 में चार्ली ली नाम के शख्स ने बनाया था, जो गूगल का कर्मचारी था। उन्होंने बिटकॉइन को सफल बनाने में भी योगदान दिया, जिसके बाद उन्होंने लाइट कॉइन बनाया, बिटकॉइन की तुलना में लाइटकॉइन तेजी से काम करता है और यही कारण है कि लाइट कॉइन बिटकॉइन जैसे लोगों के बीच भी बहुत लोकप्रिय है।

  1. Monero

यह भी एक प्रकार की क्रिप्टो करेंसी है जिसमें विशेष प्रकार की सिक्योरिटी का उपयोग किया जाता है। इसे रिंग सिग्नेचर नाम से जाना जाता है। मोनेरो एक क्रिप्टोक्यूरेंसी है जो नेटवर्क पर लेनदेन को सुविधाजनक बनाने और रिकॉर्ड करने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग करती है। मोनेरो एक विकेंद्रीकृत मुद्रा है, जिसका अर्थ है कि इसका कोई केंद्रीय अधिकार नहीं है। मोनेरो में विभिन्न विशेषताएं हैं जो भुगतान उत्पत्ति, प्राप्तकर्ता और राशियों की गोपनीयता बनाए रखती हैं। अपनी वेबसाइट के अनुसार, मोनेरो अप्राप्य है, और लेनदेन को एक विशिष्ट उपयोगकर्ता या पहचान से जोड़ा नहीं जा सकता है।

  1. Peercoin

Peercoin भी एक विकेन्द्रीकृत क्रिप्टो करेंसी है, यह भी किसी सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं है और Peercoin बिल्कुल Bitcoin की तरह काम करता है और इसमें जो तकनीक है वह भी क्रिप्टो करेंसी के समान ही है, इस कारण से इसके लेनदेन का एन्क्रिप्शन भी बिटकॉइन के समान है यही कारण है कि लोग Bitcoin के साथ-साथ Peercoin को भी पसंद करते हैं।

भारत में Cryptocurrency को खरीदा कैसे जाता है – How to buy cryptocurrency in Hindi

अगर आपको भारत में Cryptocurrency खरीदनी है तो WazirX भारत का सबसे पॉपुलर Cryptocurrency Exchanges है। जिनकी मदत से आप यह हर तरह के Coins खरीद सकते है। और INR में Payment कर सकते है। 

Cryptocurrency खरीद ने के लिए आवश्यक Documents 

  • आधार कार्ड 
  • पेन कार्ड 
  • वोटर आईडी कार्ड 
  •  फ़ोन नंबर 
  • बैंक एकाउंट्स डिटेल 

Cryptocurrency के फायदे – Advantages of cryptocurrency in Hindi

  • Cryptocurrency एक डिजिटल करेंसी  है जिसमें धोखाधड़ी की सम्भावना बहुत कम होती है।
  • Cryptocurrency की बात करे तो, तो वे सामान्य डिजिटल भुगतान की तुलना में अधिक सुरक्षित हैं। 
  • Cryptocurrency में खाते बहुत सुरक्षित हैं क्योंकि इसमें विभिन्न प्रकार के क्रिप्टोग्राफी एल्गोरिथ्म का उपयोग किया जाता है।
  • क्रिप्टोक्यूरेंसी को आसानी से खरीदा और देश के बाहर भेजा जा सकता है और फिर पैसे में परिवर्तित किया जा सकता है।
  • क्रिप्टो करेंसी का सबसे बड़ा फायदा उन लोगों को होता है जो अपना पैसा छुपा कर रखना चाहते हैं।
  • Cryptocurrency एक सिक्योर करेंसी है।

Cryptocurrency के नुकसान – Disadvantage of Cryptocurrency in Hindi

  • Cryptocurrencyका सबसे बड़ा नुकसान तो यही है कि इसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है
  • इसका उपयोग कालाबाजारी जैसे गलत कामों के लिए आसानी से किया जा सकता है।
  • Cryptocurrency को हैक करने का भी खतरा बना रहता है।
  • अगर आपसे गलती से कोई ट्रांजैक्शन हो गया है तो आप उसे वापस नहीं बुला सकते हैं जिससे नुकसान होता है।
  • यदि आपका वॉलेट आईडी खो जाता है तो यह हमेशा के लिए खो जाता है क्योंकि इसे पुनर्प्राप्त करना संभव नहीं है।

आपने आज क्या सीखा 

आपने आज जाना की क्रिप्टोकरेंसी क्या है (cryptocurrency meaning in Hindi), यह कैसे कार्य करती है (work of cryptocurrency in Hindi), इसका इतिहास क्या है( history of Cryptocurrency in Hindi), और साथ ही साथ आपने आज इसके प्रकारो के बारे में भी जाना की आखिर क्रिप्टोकरेंसी कितने प्रकार की है (Types of cryptocurrency in Hindi) और अंत में cryptocurrency को भारत में कैसे खरीदे (How to buy cryptocurrency in Hindi)और इसके फायदे और निकसान क्या है। आपने आज इन सभी चीजों के बारे में जाना 

मुझे आशा है की इस लेख को पढ़ने के बाद आपके मन में cryptocurrency in Hindi से सम्बंधित जितने भी प्रश्न होंगे उनके उत्तर आपको मिल गए होंगे। लेकिन अगर ऐसा नहीं है और अभी भी कोई प्रश्न आपके मन में है तो उसको आप निचे कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते है। आपको आपके हर एक प्रशन का उत्तर निचे दिया जायेगा। 

Disclaimer

इस वेबसाइट पर दी गई जानकारी शैक्षिक और मनोरंजन उद्देश्यों के लिए है। इस वेबसाइट पर उपलब्ध कराई गई जानकारी निवेश सलाह, वित्तीय सलाह या व्यापारिक सलाह का गठन नहीं करती है। Hindi Tech World किसी भी क्रिप्टोकरेंसी को खरीदने की अनुशंसा नहीं करता है। क्रिप्टो बाजार अत्यधिक अस्थिर हैं और क्रिप्टो निवेश जोखिम भरा है। पाठकों को क्रिप्टोकरेंसी पर अपना शोध करना चाहिए और कोई भी क्रिप्टो निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से परामर्श करना चाहिए।

Leave a Comment