क्रिप्टोकरेंसी क्या होती है – What is Cryptocurrency meaning in Hindi

3
2531

Cryptocurrency meaning in Hindi : Cryptocurrency kya hai : आजकल आपको क्रिप्टोकरेंसी के बारे में बहुत ज्यादा सुनने को मिल रहा होगा। यूट्यूब और ट्विटर इन दोनों में तो आजकल सबसे ज्यादा चर्चा में क्रिप्टोकरेंसी ही है। पहले ऐसा नहीं था पहले इसके बारे में ज्यादातर लोग नहीं जानते थे। लेकिन जबसे Elon Musk ने डोजकॉइन को प्रमोट करना चालू किया है और लोगो को इससे जो लाखो करोडो रुपयों का फायदा हुआ है तबसे ही Cryptocurrency इतनी ज्यादा चर्चा में है और लोगो के बीच लोकप्रिय होती जा रही है। 

अब हम में से कई लोग ऐसे होंगे जिनको क्रिप्टोकरेंसी के बारे में थोड़ा बहुत पहले से पता होगा और कई ऐसे भी होंगे जिनको कुछ भी नहीं पता होगा। तो चाहे आप पहले वाले लोगो में से है जिनको क्रिप्टो के बारे में थोड़ा बहुत पता है या दूसरे वाले में से जिनको कुछ भी नहीं पता। यह लेख दोनों तरह के लोगो के लिए लाभदायक है। क्योकि इस लेख मे आपको क्रिप्टोकरेंसी से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी मिलेगी। 

आज इस लेख को पढ़ने के बाद आपके मन में Cryptocurrency से सम्बंधित जितने भी प्रशन है जैसे cryptocurrency क्या है (Cryptocurrency meaning in Hindi), क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास क्या है(History of Cryptocurrency in Hindi), क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है?(Types of Cryptocurrency in Hindi), Cryptocurrency कैसे काम करता है?, आदी के उनके उत्तर आपको मिल जाएंगे। तो चलिए अब बिना और वक़्त गवाए शुरू करते है अपने पहले प्रशन के साथ की क्रिप्टोकरेंसी क्या है। 

Cryptocurrency meaning in Hindi
Cryptocurrency meaning in Hindi

क्रिप्टोकरेंसी क्या है ( Cryptocurrency kya hai ) – Cryptocurrency meaning in Hindi

Cryptocurrency एक डिजिटल मुद्रा है जो की कम्प्यूटर अल्गोरिथम से बनी है और किसी भी प्रकार की ट्रांसक्शन करने के लिए क्रिप्टोग्राफ़ी का इस्तेमाल करती है। जैसे की इसका उपयोग सामान के लेन-देन में किया जाता है। इसको किसी भी प्रकार की सरकारी संस्था द्वारा संचालित नहीं किया जाता। और ना ही कोई इसका मालिक है।

जैसे की रूपए को भारतीय रिज़र्व बैंक संभालता और संचालित करता है। ठीक इसका उल्टा क्रिप्टोकरेंसी को कोई नहीं संभालता या संचालित करता है। 

Cryptocurrency को digital currency भी कहते है। और इनका इस्तेमाल चीजों को खरीदने और बेचने के लिए किया जाता है। इसको एक प्रकार की digital asset भी कह सकते है। जो काम करने के लिए Cryptography का इस्तेमाल करती है। 

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास – History of cryptocurrency in Hindi

सबसे पहली क्रिप्टोकरंसी 2009 में लांच की गयी या कह सकते है की बनाई गई थी। जो की बिटकॉइन थी। इसको सतोशी नाकामोतो द्वारा लॉन्च किया गया था। सतोशी नाकामोतो के बारे में किसी को भी ज्यादा नहीं पता है। बस यह कहा जाता है कि वह एक Developer थे।

लेकिन कई लोगों का मानना यह भी है, कि वह कोई संस्था थी जिसने बिटकॉइन को बनाया और उस संस्था का नाम सतोशी नाकामोतो था। अब इसमें कितनी सच्चाई है यह तो कोई नहीं जानता है।और इसका कारण यह है की सतोशी नाकामोतो के बारे में कुछ भी नहीं पता चला क्योंकि बिटकॉइन को लांच करने के कुछ समय बाद ही वह गायब हो गए थे। और उसके बाद उनका कोई भी पता नहीं लगा पाया।

शुरुआती दौर में  क्रिप्टोकरेंसी के बारे में ज्यादा लोगों को नहीं पता था और ना ही ज्यादा लोग इस पर विश्वास करते थे। लेकिन धीरे-धीरे जिस तरह बिटकॉइन लोगों के बीच चर्चित होने लगा और इसने कई लोगों को जिस तरह करोड़पति बनाया उसके बाद यह लोगों के बीच बहुत ज्यादा लोकप्रिय हो गया।

क्रिप्टोकरंसी सबसे पहले डार्क वेब को इस्तेमाल करने वाले और गैर कानूनी कार्य करने वाले लोग जैसे ड्रग डीलर आदि के बीच प्रसिद्ध हुई। एक आंकड़े में यह भी सामने आया था की बिटकॉइन के निकलने के पहले 3 महीनों के अंदर डार्क वेब पर इसकी कुल 1.2 मिलियन ट्रांजैक्शन हुई थी।

ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी काम ही कुछ इस तरीके से करती है इससे जब भी कोई ट्रांजैक्शन करता है या कह सकते हैं कि पैसे का लेन-देन करता है तो उस ट्रांजैक्शन के बारे में कोई भी पता नहीं लगा सकता कि वह ट्रांजैक्शन करने वाला व्यक्ति आखिर कौन है। जिस प्रकार अगर हम सामान्य पैसों में ट्रांजैक्शन करते हैं। तो बैंक हमारे अकाउंट के ऊपर नजर रखता है और अगर कोई गैर कानूनी कार्य करते ह&#