Computer Mouse in Hindi – माउस क्या है और इसके 2 प्रकार के नाम क्या है?

Computer Mouse in Hindi, दोस्तों आज के समय में कंप्यूटर हम सभी लोगो की एक ख़ास जरूरत बन चूका है। ऐसे में कंप्यूटर को सीखना बहुत जरुरी है। क्योकि अब धीरे धीरे सारा काम ऑनलाइन होने लगा है। चाहे वह ऑफिस का हो या फिर स्कूल का। इसलिए कंप्यूटर को सीखना अब हमारी जरूरत बन चूका है। एक लेख में तो पुरे कंप्यूटर के बारे जानकारी न तो दी जा सकती है। और न ही आप एक लेख को पढ़के कंप्यूटर चलाना सीख पाएंगे। तो इसी लिए मैंने कंप्यूटर के बारे में सारी जानकारी अलग अलग लेख में दी है। जिनको आप technology section में जाकर या कंप्यूटर section में जाकर पढ़ सकते है। 

आज इस में मै आपको कंप्यूटर माउस के बारे में बताऊंगा। चाहे आपको कंप्यूटर माउस की बारे में पता हो या ना पता हो। लेकिन इस लेख को पढ़ने के बाद आपको कंप्यूटर माउस के बारे में जानकारी मिल जाएगी। वो भी सारी की सारी।

दोस्तों Computer mouse in Hindi एक ऐसा डिवाइस जिससे हर कंप्यूटर चलाने वाला व्यक्ति जानता है और इस्तेमाल भी करता है। लोगो को बचपन से ही स्कूलों में कंप्यूटर के बारे में जानकारी दी जाती है। उन्हें कंप्यूटर से सम्बंधित सभी चीजों के बारे में बताया जाता है। जैसे की RAM, CPU, GPU, इनपुट डिवाइस, आउटपुट डिवाइस, आदी। और मै भी आज कंप्यूटर के ही एक हार्डवेयर डिवाइस कंप्यूटर माउस इन हिंदी के बारे में बताऊंगा। तो चलिए बिना और वक़्त गवाए शुरू करते है। सबसे पहले जानते है की आखिर कंप्यूटर माउस क्या है। 

Computer Mouse in Hindi
Computer Mouse

माउस क्या होता है? – What is computer mouse in Hindi

Computer Mouse एक pointing डिवाइस होता है। यह एक हार्डवेयर डिवाइस है जो Two-dimensional motion को परखकर कंप्यूटर स्क्रीन में cursor को अलग अलग दिशाओ में चलाने में मदत करता है। 

माउस की मदत से कंप्यूटर को इस्तेमाल करना और भी आसान हो जाता है। अगर आप कंप्यूटर को बिना माउस के चलाने की कोशिश करेंगे तो उसके लिए आपको कीबोर्ड का इस्तेमाल करना होगा। और कीबोर्ड की मदत से cursor या कंप्यूटर को चलाना बहुत मुश्किल होता है। सबसे बड़ी मुश्किल तो यही है की आप cursor को नहीं हिला पाएंगे। जिसकी वजह से आपको किसी भी folder, text, आदी को select करने के लिए बहुत समय लगेगा। बार बार arrow keys से उप्पेर निचे करने में बहुत समय लगता है। और माउस आपकी इन्ही सब मुश्किल को हल करता है। 

माउस के प्रकार – Types of computer Mouse in Hindi

Computer Mouse तीन प्रकार के होते है। 

वायर्ड माउस Wired Mouse 
वायरलेस माउस Wireless Mouse 
ब्लूटूथ माउस Bluetooth Mouse

माउस के यही तीन मुख्या प्रकार है। इसमें भी हो सकता है की आपके मन में प्रशन उठे। की वायरलेस और ब्लूटूथ माउस तो एक जैसे ही है। दोनों ही वायरलेस तरीके से connect होते है। लेकिन इन दोनों में भी एक छोटा सा difference है। जो आपको निचे पता चलेगा। चलाइये इन तीनो के बारे में विस्तार से जानते है। 

वायर्ड माउस – Wired Mouse

वायर्ड माउस सबसे पुराने माउस है। और जैसे की इनके नाम से ही पता चलता है की इनमे wire मतलब की तार का इस्तेमाल होता है। सबसे पहला कंप्यूटर माउस भी वायर्ड माउस ही था। और यह 1964 में SRI’s Douglas Engelbart के द्वारा बनाया गया था। वायर्ड माउस के कुछ फायदे है तो कुछ नुक्सान भी है। 

Advantages and Disadvantages of Wired mouse

Advantages Disadvantages

1. ज्यादा अच्छे से काम करता है। यह ज्यादा  accurate है। जितना हम माउस को हिलाते है cursor भी उतना ही हिलता है। 

वायर्ड माउस को ज्यादा दूर से चलाया नहीं जा सकता। यह सिर्फ उतना ही दूर जा सकता है जितनी लम्भी इसके wire हो। 
2. Speed बहुत तेज होती है। यह माउस हिलते ही cursor भी साथ में हिलता है।  वायर माउस को ज्यादा झटके से नहीं हिलाया जा सकता। इसके साथ हमेशा तार टूटने का दर बना रहता है। 
3. दूसरे माउस के मुकाबले में यह बहुत सस्ता होता है। इससे आसानी से खरीदा जा सकता है। इसको हर जागर लेजाकर नहीं चलाया जा सकता। इसको चलाने के लिए एक समतल सतह की जरुरत पड़ती है। 
4. वायर्ड माउस में किसी भी प्रकार की battery की जरुरत नहीं पढ़ती।  

वायरलेस माउस – Wireless Mouse 

वायरलेस माउस आज के जमाने के माउस है। आज के समय में इनका इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है। इनके साथ किसी भी प्रकार की ओर नहीं होती। जो इसको इस्तेमाल करने मई और भी ज्यादा आसान बनता है। वायरलेस माउस के भी कुछ फायदे और नुक्सान होते है। 

Advantages and Disadvantages of Wireless Mouse 

Advantage Disadvantage

1. इसकी range एक कमरे के बराबर होती है जो की बहुत अच्छी range होती है। 

इसको चलाने के लिए battery की जरुरत पढ़ती है। 
2. इससे आप कंप्यूटर से दूर बैठकर भी इस्तेमाल कर सकते है।  इसके साथ किसी भी प्रकार की तार का कोई सम्बन्ध नहीं होता। इसमें accuracy भी काम होती है। अगर battery ख़तम होने वाली हो तो माउस काफी बार धीरे काम करता है। 
3. इसको किसी भी प्रकार से चलाया जा सकता है। जरुरी नहीं की आप इससे समतल जमीन पर ही चलाए। यह वायर्ड माउस से महंगा भी होता है। 
4. इसके लिए माउस pad की जरुरत नहीं होती।  

दोस्तों कंप्यूटर माउस एक और प्रकार का भी होता है जो उप्पर नहीं बताया गया है क्योकि इसमें और वायरलेस माउस में ज्यड्डा अंतर नहीं होता है। जो तीसरा प्रकार है वह है ब्लूटूथ माउस। यह जो माउस है इसकी विशेषताए और disadvantages दोनों वायरलेस कंप्यूटर माउस के सामान है। बस इनदोनो में एक ही फर्क है की ब्लूटूथ माउस को इस्तेमाल करने के लिए आपको USB Bluetooth adapter खरीदना पढ़ सकता है। अगर आपको कंप्यूटर या लैपटॉप में ब्लूटूथ का system नहीं है तो। 

दोस्तों अभी तक हमने कंप्यूटर माउस के बारे में बहुत कुछ जान लिया है। चलिए एक बार इसके प्रकारो के उदहारणों के साथ समझते है। ताकि आपको पता चल सके की कोनसे माउस वायर्ड है कोनसे वायरलेस। तो चलिए जानते है। कंप्यूटर माउस के उदहारण। (Examples of computer mouse in Hindi )

सबसे पहले वायर्ड माउस के उदहारण के बारे में जानते है। 

वायर्ड माउस के उदहारण – Examples of Wired Mouse in Hindi

मेकेनिकल माउस Mechanical Mouse
ऑपटिकल माउस Optical Mouse 
गेमिंग माउस Gaming Mouse

 

 1. मेकेनिकल माउस – Mechanical Mouse 

mechanical mouse
Mechanical mouse Source – Wikipedia

Mechanical mouse को पुराने समय में इस्तेमाल किया जाता था। जब technology इतनी ज्यादा एडवांस नहीं थी। तब मैकेनिकल माउस ने ही कंप्यूटर का साथ दिया था। यह सबसे पुराने इस्तेमाल होने वाले माउस में से एक है। इसको बॉल माउस भी कहा जाता है। क्योकि इसके निचले हिस्से में एक रबर की बॉल लगी रहती है। जो motion को समझ कर स्क्रीन पर cursor को हिलाती है।

2. ऑपटिकल माउस – Optical Mouse

Optical Mouse

इस तरह के माउस आज के समय में आपको हर जगह दिख जाएंगे। लेकिन इस माउस में आपको रबर बॉल और मैकेनिकल चीजे देखने को नहीं मिलती। उसकी जगह इसमें LED मिलती है जिसके सेंसर movement को समझ कर डिस्प्ले में कर्सर को हिलाते है।

3. गेमिंग माउस – Gaming Mouse

Computer Mouse in Hindi - माउस क्या है और इसके 2 प्रकार के नाम क्या है?

गेमिंग माउस दूसरे सामान्य माउस से बहुत अलग होता है। जहा सामान्य माउस एक सिर्फ दो बटन दूसरी तरह गेमिंग माउस के अंदर बहुत सारे बटन होते है। और यह सभी बटन अलग अलग कार्य करने के काम आते है।

वायरलेस माउस के उदहारण – Examples of Wireless Mouse

लेज़र माउस Laser Mouse 
स्टाइलस माउस Stylus Mouse 
वर्टीकल माउस Vertical Mouse

 

1. लेज़र माउस – Laser Mouse

Computer Mouse in Hindi - माउस क्या है और इसके 2 प्रकार के नाम क्या है?

लेज़र माउस भी एक ऑप्टिकल माउस ही होता है। लेकिन इसके नाम की तरह यह LED की जगह लेज़र का इस्तेमाल करता है। इसके sensor किसी भी motion या movement को  detect करते है और परिणाम स्वारूप cursor डिस्प्ले में हिलता है।

2. स्टाइलस माउस – Stylus Mouse

Computer Mouse in Hindi - माउस क्या है और इसके 2 प्रकार के नाम क्या है?

यह सबसे अलग तरह का माउस है। देखने में तो एक पेन की तरह ही होता है लेकिन यह स्क्रीन के उप्पेर menu को select करने और लिखने आता है।

3. वर्टीकल माउस – Vertical mouse

Computer Mouse in Hindi - माउस क्या है और इसके 2 प्रकार के नाम क्या है?

यह माउस अब तक के बने सबसे अजीब तरीके का माउस है। इसमें एक खासियत है की इसको लम्बे समय तक काम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इसके अंदर एक नुक्सान भी है की यह उलटे हाथ से लिखने वाले लोगो के लिए अलग और सीधे हाथ से काम करने वालो के लिए अलग आता है।

कंप्यूटर माउस का इतिहास – History of the computer mouse in Hindi

सबसे पहले कंप्यूटर माउस बनाने की शुरुवात SRI’s Douglas Engelbart, द्वारा 1960 में हुई थी। वह कंप्यूटर और इंसान के बीच तालमेल कैसे करे उसपर research कर रहे थे। जिसके बाद Chief Engineer ऑफ़ SRI, Bill English ने पहला कंप्यूटर माउस का prototype 1964 में बनाया था। 

सबसे पहले माउस का नाम “X-Y Position Indicator for a Display System.” रखा गया था। जिसमे सिर्फ एक या दो wheel लगे हुए थे। ताकि वह movement को डिटेक्ट कर सके। माउस का Patent 1967 में file किया गया था और 1970 में इसको Engelbart के नाम पर issue कर दिया गया था। 

SRI ने patent का समय ख़तम होने से तीन साल पहले ही उस समय की बड़ी बड़ी कंपनियों जैसे APPLE, XEROX, आदी को माउस के patent $40000 में दे दिए थे। जिसके बाद माउस 1984 में बाज़ारू तौर पर बिकने के लिए तैयार होगया था। और इसी के बाद Apple कंपनी ने पहला cordless माउस तैयार किया था। 

कंप्यूटर माउस कैसे बनता है? – Manufacturing process mouse in Hindi

कप्यूटर माउस को बनाना ज्यादा मुश्किल नहीं होता है। जैसे कंप्यूटर के दूसरे parts को बनाने के लिए बहुत सारा समान लगता है। माउस में ऐसा कुछ भी नहीं लगता। माउस को बनाने की शुरुवात प्लास्टिक को काटकर उससे माउस का निचला हिस्सा त्यार किया जाता है। उसके बाद जो निचला हिस्सा त्यार किया गया है उसके उप्पर motherboard रखा जाता है। अब आप यह मत समझना की मै CPU के motherboard की बात कर रहा हु। मै आपको दू की दोस्तों हर एक डिवाइस का अपना खुद का motherboard होता है। तो इसी प्रकार माउस के अंदर सबसे पहले उसके निचले हिस्से पर मोठेर्बोर्ड रखा जाता है। 

Motherboard रखने के बाद उसम जरुरी तारो(wires) को सहोल्डिंग की मदत से जोड़ा जाता है। फिर इसके बाद मदरबोर्ड के उप्पर एक wheel और दो बटन को जोड़ा जाता है। और साथ ही में अगर वायर्ड माउस बन रहा है। तो इसके आगे की तरफ एक लम्बी cable जोड़ी जाती है। जिसकी मदत से माउस कंप्यूटर से connect हो सके। यह सभी चीजे जोड़ने के बाद आखिर में बारी आती है माउस के उप्पेर वाले हिस्से की। आखिर में माउस के उप्पर के हिस्से को जोड़ा जाता है। और यह भी प्लास्टिक से ही बना हुआ होता है। 

आज आपने माउस के बारे में क्या सीखा

आज आपने सीखा की माउस क्या होता है? (What is computer mouse in Hindi), माउस के प्रकार (Types of computer Mouse in Hindi), वायर्ड माउस के उदहारण – (Examples of Wired Mouse in Hindi), वायरलेस माउस के उदहारण – (Examples of Wireless Mouse in Hindi), माउस कैसे बनाया जाता है ( manufacturing process of computer mouse in Hindi) आखिर में हमने  जाना की माउस का इतिहास क्या है। 

F.A.Q ( Question Hub )

1. माउस कितनी तारीक को है? – Types of computer mouse in Hindi

कंप्यूटर माउस दो तरीके के होते है। एक वायर्ड कंप्यूटर माउस जिनको कंप्यूटर से connect होने के लिए वायर का इस्तेमाल करना पढता है। और दूसरे होते है वायरलेस कंप्यूटर माउस। यह माउस कंप्यूटर के साथ बिना किसी तार की मदत से जुड़ जाता है।

2. कौन सा टूल माउस पॉइंट को मैग्निफिएर टूल में बदल देता है? – Tool to convert to Magnifier from computer mouse in Hindi.

माउस पॉइंट मतलब की cursor को मैग्निफिएर में बदलने  के लिए किसी टूल  जरुरत नहीं पढ़ती। कंप्यूटर स्क्रीन के उप्पेर किसी भी चीज को magnify करने के  आप कीबोर्ड के उप्पर दिए गए Crtl button को दबाकर रखे। और साथ में माउस के उप्पर जो wheel होती है उसको आगे की तरफ घुमाए। इन दोनों को एक साथ करने से आप किसी भी चीज के उप्पेर ज़ूम कर पाएंगे। और अगर आपको उससे भी कोई मदत नहीं मिल पा रही। तो आप window button को दबाकर वह magnify search करे। 

जैसे ही आप यह search करेंगे आपके सामने magnify नाम की application आ जाएगी। उसकी मदत से आप किसी भी चीज को magnify करके देख सकते है। 

3. माउस में लाइट आ रहा है पर कर्सर काम नहीं कर रहा? 

काफी बार यह दिक्कत सभी के साथ होती है। की माउस में लाइट तो दिख रही होती है लेकिन वह काम नहीं करता। इसके दो कारन हो सकते है। पहला की अगर वह वायर्ड माउस है तो हो सकता है की वायर आगे से या बीच में से टूट गयी हो। तो इसको ठीक करने के लिए पहले वायर तो हिलाकर देखिये की माउस कब चल रहा है और कब नहीं।

और जब टुटा हुआ हिस्सा मिल जाए तो उससे टेप की मदत से जोड़ दे। दूसरा कारन यह हो सकता है की अगर आपका वायरलेस माउस है। तो शयद उसीकी battery ख़तम हो रही हो। तो इस चीज को ठीक करने के लिए आप Mouse in Hindi की battery बदलकर देख सकते है। 

4. कंप्यूटर में नोटपैड में बिना माउस की सहायता से 2 लाइन कॉपी कैसे करें?

कंप्यूटर माउस के बिना किसी भी लिखे हुए text को कॉपी करने के लिए आप पहले arrow keys की मदत से अपने blink कर रहे cursor को उस text पर लेकर जाए। उसके बाद shift button को दबाकर रखे। और जो भी text कॉपी करना है उसकी उस तरफ arrow keys दबाकर उसे select करले। फिर select करने के बाद कीबोर्ड के उप्पेर Crtl और “C” दोनों को एक साथ दबाए। आपका text कॉपी हो जाएगा। 

5. कंप्यूटर माउस में लाल लाइट क्यों जलती है? – Laser light in Computer mouse in Hindi

Mouse in Hindi में लेज़र लाइट जलने का एक मुख्या कारन यही है। यह लेज़र लाइट असल में LED या लेज़र बीम हो सकती है जिससे आप लाल लाइट बोल रहे है। और इसी की मदत से माउस के अंदर लगे हुए सेंसर माउस को बताते है की माउस किस दिशा में घूम रहा है। 

6. माउस में कितने स्क्रोल बटन्स होते है? – Number Scroll Buttons in Mouse in Hindi

माउस के अंदर सिर्फ और सिर्फ एक ही स्क्रॉल बटन लगा हुआ होता है।  

मुझे उम्मीद है दोस्तों की आपको यह लेख पढ़ने के बाद कंप्यूटर माउस(computer mouse in Hindi) के बारे में सारी जानकारी मिल गयी होगी। अगर अभी भी आपके मन में कोई सवाल रहगया है। तो आप उसे निचे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है। आपको वह उसका उत्तर दिया जाएगा। 

Leave a Comment