Bitcoin Death cross क्या होता है? | क्या यह बिटकॉइन का अंत है?

Bitcoin death cross : जैसा कि हम सभी जानते हैं कि बिटकॉइन क्रिप्टोकरेंसी मार्केट का राजा है। बिटकॉइन का dominance पूरी क्रिप्टोकरेंसी मार्केट के अंदर 45% से ज्यादा है। इसका मतलब यह है कि अगर बिटकॉइन की कीमत में गिरावट आती है या बिटकॉइन की कीमत बढ़ती है तो इसका असर पूरी क्रिप्टोकरंसी मार्केट के ऊपर पड़ेगा। अब ऐसे में कुछ खबरें यह भी निकल कर आ रही हैं Bitcoin death cross होने वाला है। आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि आखिर बिटकॉइन डेथ क्रॉस क्या है? 

बिटकॉइन डेथ क्रॉस क्या है, क्या यह बिटकॉइन का अंत है, क्या इसके बाद बिटकॉइन की कीमत बहुत ज्यादा गिर जाएगी। ऐसे ही कई सारे प्रश्न आपके मन में आ रहे होंगे। तो चलिए आज के इस लेख में मैं आपको आपके सभी प्रश्नो का उत्तर दूंगा। अब बिना और वक्त गवाए सबसे पहले यह जानते है कि बिटकॉइन डेथ क्रॉस क्या है?

Bitcoin death cross in Hindi
Bitcoin death cross

बिटकॉइन डेथ क्रॉस क्या है – Bitcoin death cross in Hindi

क्रिप्टोकरेंसी मार्केट के अंदर डेथ क्रॉस का मतलब यह होता है। कि जब किसी भी क्रिप्टो कॉइन की कीमत उसके पिछले 200 दिनों के average कीमत से अधिक नीचे सिर्फ पिछले 50 दिनों के अंदर गिर जाती है। तो उसे डेथ क्रॉस कहते हैं। इससे आप समझ गए होंगे कि बिटकॉइन की कीमत पिछले 200 दिनों की average कीमत से ज्यादा अधिक नीचे पिछले 50 दिनों में जा सकती है।

लेकिन अभी तक इसने डेट क्रॉस लाइन को हुआ नहीं है। अभी भी यह उस लाइन से ऊपर ही है। यह सिर्फ अनुमान लगाए जा रहा हैं कि Bitcoin death cross को अगर छू लेता है। तो उसके बाद ऐसा हो सकता है की बिटकॉइन की कीमत लगातार गिरती ही चली जाए।

जब भी किसी कॉइन की कीमत डेथ क्रॉस लाइन को छू लेती है। तो उसके बाद उसकी कीमत बहुत ज्यादा नीचे गिरती चली जाती है। डेथ क्रॉस लाइन को छूने के बाद मार्केट भी अजीब तरीके से व्यवहार करने लगती है। अब ऐसे में एक प्रश्न उठता है कि हमें क्या करना चाहिए। क्या हमें अपनी holdings को बेच देना चाहिए या उनको संभाल के रखना चाहिए। 

अगर हम बड़े और बुद्धिमान इन्वेस्टर और ट्रेडर की माने तो उनके हिसाब से बिटकॉइन पहले भी 2 बार डेथ क्रॉस को चुका है। पर ऐसा कभी नहीं हुआ कि मार्केट वापस ना उठी हो। अब यह आपके ऊपर है की आप अपनी होल्डिंग्स को अपने पास रखना चाहते है या उसे बेचना चाहते है।

अब बेचना चाहिए या होल्ड करना चाइये 

अगर डेट क्रॉस को कोई भी कॉइन टच करता है तो उसके बाद उसको वापस उठने में कम से कम 1 से 2 साल लग जाते हैं। अगर आप अपने पैसों को वापस रिकवर करने के लिए 1 से 2 साल तक इंतजार कर सकते हैं। तो आप उनको होल्ड करके रख सकते हैं। लेकिन अगर ऐसा नहीं है और आप बिल्कुल भी इंतजार नहीं कर सकते तो अपने इन्वेस्टर से सलाह लेकर या जिसको भी आप फॉलो करते हैं उनसे सलाह लेकर आप अपनी होलिंग्स को भेज भी सकते हैं।

अगर बिटकॉइन डेथ क्रॉस को टच करता है। तो इसके बाद यह भी हो सकता है कि जब उसकी कीमत नीचे चली जाएगी तो उसमें इन्वेस्ट करने का एक अच्छा अवसर सामने आएगा। क्योंकि जब बिटकॉइन की कीमत नीचे होगी तो कई सारे बुद्धिमान लोग उसमें इन्वेस्ट जरूर करते है। उनको पता होता है कि यह कभी ना कभी तो वापस उठेगा। और जब भी बिटकॉइन वापस उठता है तो यह सीधा 30 से 40 लाख की कीमत तक उठ जाता है।

मुझे आशा है कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपके मन में बिटकॉइन डेथ क्रॉस के प्रति जितने भी होंगे वह सब खत्म हो चुके होंगे। लेकिन अगर ऐसा नहीं है और अभी भी आपके मन में Bitcoin death cross के प्रति कोई प्रश्न है। तो आप उनको नीचे कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं। हम आपको आपके हर एक सवाल का उत्तर नीचे कमेंट में जरूर देंगे।

Read more: 

Disclaimer

इस वेबसाइट पर दी गई जानकारी शैक्षिक और मनोरंजन उद्देश्यों के लिए है। इस वेबसाइट पर उपलब्ध कराई गई जानकारी निवेश सलाह, वित्तीय सलाह या व्यापारिक सलाह का गठन नहीं करती है। Hindi Tech World किसी भी क्रिप्टोकरेंसी को खरीदने की अनुशंसा नहीं करता है। क्रिप्टो बाजार अत्यधिक अस्थिर हैं और क्रिप्टो निवेश जोखिम भरा है। पाठकों को क्रिप्टोकरेंसी पर अपना शोध करना चाहिए और कोई भी क्रिप्टो निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से परामर्श करना चाहिए।

2 thoughts on “Bitcoin Death cross क्या होता है? | क्या यह बिटकॉइन का अंत है?”

    • अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ इसको जरूर शेयर करे।

      Reply

Leave a Comment